यूनिट प्रबंधन टीम

Dr Jasjit Singh-Unit Head-Kaithal

डॉ. जसजीत सिंह, यूनिट हेड-कैथल

डॉक्टर जसजीत सिंह युवा मैनेजमेंट लीडर हैं। अपना ग्रैजुएशन पूरा करने के बाद डॉक्टर जसजीत जी ने फॉर्टिस अस्पताल के साथ मिलकर काम करने वाली चितकारा यूनिवर्सिटी से हेल्थकेयर बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में अपना मास्टर्स पूरा किया। इसके साथ ही डॉक्टर जसजीत जी, अस्पतालों के लिए एनएबीएच आंतरिक निर्धारक भी हैं और हेल्थकेयर मैनेजमेंट में अपनी एग्जीक्यूटिव पीएचडी भी कर रहे हैं। इन्होंने सिग्नस मेडिकेयर प्राइवेट लिमिटेड स्टैंडफोर्ड सीड ट्रांसफॉर्मेशन प्रोग्राम में, टीम लीडर के रूप में भी काम किया है। इनके नेतृत्व में उजाला सिग्नस ग्रुप के कई अस्पतालों को एनएबीएच का प्रमाण पत्र मिला है। डॉक्टर जसजीत सिंह, सिग्नस सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, कैथल के निदेशक व्यवस्थापक और पूरे सिग्नस समूह के गुणवत्ता विभाग के प्रमुख हेड भी हैं। जब से कैथल स्थित सिग्नस सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल स्थापित हुआ है तब से वह अस्पताल की देखभाल कर रहे हैं। इस अस्पताल को कई जिला स्तरीय और राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार भी मिले हैं।

Dr. Utkarsh Agarwal- Unit Head- Rewari

डॉक्टर उत्कर्ष, यूनिट हेड-कैथल

प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्थान से मेडिकल प्रोफेशनल में ग्रैजुएशन करने के बाद, डॉ उत्कर्ष अग्रवाल ने अलग-अलग मेडिकल सेटिंग में 10 साल से ज्यादा समय तक बड़े पैमाने पर काम किया है। डॉ उत्कर्ष को आपातकालीन चिकित्सा और महत्वपूर्ण स्वास्थ्य संबंधित समस्या का सफलतापूर्वक इलाज करने में भी अनुभव है। इन्हें क्रिटिकल केयर और गहन प्रबंधन में गहरी रुचि है। विशेष रूप से महत्वपूर्ण स्थितियों के रोग विज्ञान को समझने और शरीर के विभिन्न मेटाबॉलिक और हीमोडायनामिक प्रणालियों के बीच संबंध को जानकर मरीज़ को ठीक करने में भी ये काफी रूचि रखते है।

पूरा पढ़ें

नेतृत्व और प्रबंधन टीम के सदस्य के रूप में, डॉ उत्कर्ष ने चिकित्सा सेवाओं में कई परियोजनाएं शुरू की हैं और वैश्विक चिकित्सा सहायता टीम का सदस्य होने के नाते अंतर्राष्ट्रीय चिकित्सा सहायता में भी अच्छी तरह से काम किया है। इतना ही नहीं, डॉक्टर उत्कर्ष ने उन क्षेत्रों में भी सफलतापूर्वक इलाज की सुविधा प्रदान करवाई है जहां पर मरीज़ों का इलाज होना भी संभव नहीं था। डॉक्टर उत्कर्ष ने हेल्थकेयर के क्षेत्र में कई सारी परियोजनाओं को भी शुरू किया है। इनमें रिमोट और टेली मेडिकल सर्विस, हेल्थ और ट्रैवल इंश्योरेंस, ट्रेंनिंग्स, और देशभर में प्राइमरी और सेकंडरी क्लीन्कस भी शामिल हैं। इसी के साथ एशिया और साउथ ईस्ट एशिया के क्षेत्रों में रणनीति के साथ इमरजेंसी सेवाएं देना भी शुरू किया।

Dr. Roopesh Kumar-Karnal Unit Head

डॉ रूपेश कुमार-करनाल यूनिट हेड

डॉ रूपेश कुमार पहले फिजियोथेरेपिस्ट थे और अब हेल्थकेयर मैनेजमेंट लीडर हैं । इलाहाबाद विश्वविद्यालय से फिजियोथेरेपी पूरी करने के बाद डॉ रूपेश कुमार ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस) से अस्पताल प्रबंधन में पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा किया है। आईआईएम कलकत्ता से आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन में फैलोशिप के बाद इन्होंने जीई क्रॉटोनविले यूएसए से ग्राहक के लिए परिवर्तन त्वरण प्रक्रिया में अपना सर्टिफिकेट प्रोग्राम पूरा किया। डॉक्टर रूपेश कंपनी की ओर से स्टैनफोर्ड सीड्स ट्रांसफॉर्म प्रोग्राम में हिस्सा लेते हैं। पिछले 10 वर्षों से, यह प्राइमस अस्पतालों, अस्पतालों के पार्क समूह, मिसन ट्रस्ट अस्पतालों के साथ जुड़े हुए हैं।

Dr. Prashant Verma-Unit head-Kurukshetra

डॉ प्रशांत वर्मा, यूनिट हेड – उजाला सिग्नस, कुरुक्षेत्र – हरियाणा

डॉ प्रशांत वर्मा ने 2006 में मेडिकल में ग्रैजुएशन पूरा किया है और उसके बाद 2009 तक प्रैक्टिस की। इन्होंने 2009 से 2011 तक देवी अहिल्याबाई विश्वविद्यालय, इंदौर और 2011 से अस्पताल प्रशासन में अपना मास्टर्स पूरा किया है। इसके बाद इन्हें 2012 तक मूलचंद मेडसिटी दिल्ली में एग्जीक्यूटिव क्लैम्स डिपार्टमेंट के रूप में कैंपस प्लेसमेंट मिला। 2012 में सहायक प्रशासक के रूप में डॉ प्रशांत वर्मा मिशन अस्पताल, बरेली के प्रशासन में शामिल रहें और 2013 तक संगठन की सेवा की। इसके बाद प्रशांत जी प्रशासक के रूप में गंगाशील आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज, बरेली में शामिल हुए और वहां पर ग्रीनफील्ड परियोजना को इनके द्वारा 2015 तक आगे बढ़ाया गया।

Dr Mahender Mittal-Unit Head-Nangloi

डॉ महेंद्र मित्तल- यूनिट हेड नांगलोई

डॉ. महेंद्र मित्तल ने 1996 में महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय, रोहतक से मेडिकल मे ग्रेजुएशन किया है। इसके बाद इन्होंने 2009 से चिकित्सक के रूप में कैरियर शुरू किया और प्रशासक के रूप में एलिटस हेल्थ केयर प्राइवेट लिमिटेड में शामिल हो गए। इन्होंने 2011 में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर से अस्पताल प्रबंधन में स्नातकोत्तर डिप्लोमा किया है। और अब डॉ महेंन्द्र यूनिट हेड के रूप में उजाला सिग्नस की नांगलोई इकाई की कमान संभाल रहे हैं। उनके नेतृत्व में नांगलोई इकाई को प्रवेश स्तर का एनएबीएच मिला। इन्होंने अस्पताल को प्रति वर्ष 12 करोड़ राजस्व के काफी लाभ पहुंचाया है। अब यह अमानी इंस्टीट्यूट बैंगलोर से अर्वाड विनिंग लीडरशिप प्रोग्राम को आगे बढ़ा रहे हैं ।

Kapil Narang-Unit Head-Panipat

कपिल नारंग-यूनिट हेड- पानीपत

कपिल नारंग को चिकित्सा क्षेत्र में 11 सालों का अनुभव है। इन्होंने आर पी स्टोन क्लीनिक प्राइवेट लिमिटेड और डॉ प्रेम अस्पताल जैसी ब्रांड के साथ काम किया है। यह अस्पताल प्रशासक और एलएचडीएम के पद पर भी रहे हैं और वर्तमान में उजाला सिग्नस महाराजा अग्रसेन अस्पताल, पानीपत में यूनिट हेड के प्रोफाइल को संभालने के साथ-साथ में क्रेडिट बिजनेस हेड भी हैं।

डॉ. अंकुर राजोरिया- यूनिट हेड- वाराणसी

डॉक्टर अंकुर रजौरिया अस्पताल के प्रबंधक हैं और इन्हें हॉस्पिटल क्लीनकल मैनेजमेंट, हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन, संगठन का प्रबंधन करने में 9 साल से अधिक का अनुभव है।

Dr. O.P. Mehta

डॉ. ओपी मेहता- यूनिट हेड-रामा विहार

डॉ. ओपी मेहता ने रोहतक के पीजीआईएमएस से एमबीबीएस किया है। इन्होंने फरीदाबाद में मुख्य चिकित्सा अधिकारी के अतिरिक्त दोहरे कार्यभार के साथ जिला सिविल अस्पताल फतेहबाद में चिकित्सा अधीक्षक के पद की ज़िम्मेदारी संभाली है।

पूरा पढ़ें

अपने कार्यकाल के दौरान इन्होंने सरकारी कार्यक्रमों की विभिन्न परियोजनाओं को सफलतापूर्वक लागू किया है। इन्होंने हरियाणा सरकार के विभिन्न जिलों के लिए तेज पल्स पोलियो प्रतिरक्षण कार्यक्रमों के संस्थापक और परियोजना निदेशक के रूप में भी काम किया। इसके अलावा इन्हें हरियाणा के राज्यपाल और अपोलो इंद्रप्रस्थ अस्पताल के प्रबंधन द्वारा वर्ष 2011 में फरीदाबाद में हुई एयर एम्बुलेंस दुर्घटना की घटनाओं के दौरान किए गए कार्यों के साथ-साथ सरकारी सेवाओं के तहत अपने कार्यकाल के दौरान स्वास्थ्य विभाग का सर्वश्रेष्ठ प्रशासनिक अधिकारी चुना गया था। इन्होंने 30 वर्षों से अधिक समय तक हरियाणा सरकार के स्वास्थ्य विभाग के तहत वेरविस अस्पताल में प्रशासनिक प्रमुख के रूप में भी कार्य किया है।

Dr. Prasun

डॉ भानूप्रकाश, जम्मू – यूनिट हेड-काशीपुर यूनिट 1

डॉ भानूप्रकाश ने हॉस्पिटल और हेल्थकेयर एडमिनिस्ट्रेशन क्लीनिकल रिसर्च में मास्टर्स किया है। इन्हें मेडिकल एडमिनिस्ट्रेशन, हेल्थकेयर क्वालिटी के साथ मेडिकल टीम को हैंडल करने, मेडिकल लीगल सर्पोट देने में भी अनुभव है। यह एनएबीएच मानकों के कार्यान्वयन और एनएबीएच निगरानी और पुनर्मूल्यांकन ऑडिट में गुणवत्ता टीम का नेतृत्व कर रहे हैं। इतना ही नहीं  इन्होंने बड़े अस्पतालों में आईएसओ 9001-2015 मानकों को लागू किया है। यह एक अनुभवी टीम खिलाड़ी हैं और सलाह और प्रेरित करके समूहों में उत्साह और ऊर्जा लाना बखूबी जानते हैं। इन्हें  इशिकावा, परेटो चार्ट, एफएमईए आदि जैसे विभिन्न गुणवत्ता वाले उपकरणों के उपयोग में अच्छी समझ है।

Suresh Kalra

सुरेश कालरा- यूनिट हेड- सोनीपत

सुरेश कालरा ने अपने प्रोफेशनल करियर की शुरुआत वर्ष 2003 में महर्षि आयुर्वेद कंपनी प्राइवेट लिमिटेड से मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव के रूप में की थी। शामिल होने के एक साल के भीतर, सुरेश को लगभग 30 प्रतिनिधियों की एक टीम का नेतृत्व करते हुए,  विपणन प्रमुख के रूप में पदोन्नत किया गया था। इन्होंने इस संगठन में 12 साल से अधिक समय बिताया है और इनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए इन्हें सम्मानित भी किया गया है। 2016 में इन्होंने कैथल के उजाला सिग्नस अस्पताल में फ्रंट ऑफिस मैनेजर के तौर पर ज्वाइन किया। इसके बाद क्रेडिट हेड के तौर पर पदोन्नत होकर सोनीपत के उजाला सिग्नस अस्पताल में यूनिट हेड की कमान संभाल रहे हैं ।

डॉ कुलवीर – काशीपुर यूनिट 2 हेड

डॉ कुलवीर विक्रम सिंह, युवा एडमिनिस्ट्रेटर हैं। फिजियोथेरेपी में स्नातक करने के बाद इन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से अस्पताल और स्वास्थ्य प्रशासन (एमएचए) में अपना परास्नातक पूरा किया। स्वास्थ्य देखभाल उद्योग में 10 से अधिक वर्षों का अनुभव होने के बाद यह फोर्टिस दिल्ली और छत्तीसगढ़, अपोलो स्पेक्ट्रा, गुरुग्राम से जुड़े रहे हैं। वर्तमान में इनके नेतृत्व में उजाला सिग्नस अस्पताल, यूनिट-2, काशीपुर ने कोविड-19 रोगियों का इलाज शुरू किया।

अभिषेक राज भाटिया- यूनिट हेड- कानपुर

श्री अभिषेक राज भाटिया आत्मविश्वास से प्रेरित हैं और जीवन के प्रति आशावादी दृष्टिकोण रखते हैं। अभिषेक करियर की शुरुआत से ही स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र के साथ जुड़े हैं। यह एक संतुलित जीवन जीने और जीवन के नैतिक सिद्धांतों को लागू करने के साथ एक नेता के रूप में सेवा करके पालन करते हैं ताकि एक महत्वपूर्ण अंतर बना सके। कुलवंती स्किल एकेडमी में निर्देशक के रूप में भी इन्होंने 2000 से अधिक अभ्यर्थियों के प्रशिक्षण की निगरानी की है। यह अपने नेतृत्व में टियर-2 और टियर-3 शहरों में उजाला सिग्नस को बड़ी ब्रांड बनाना चाहते हैं ।

Nangloi : 8750060177

Sonipat : 0130-2213088

Panipat : 0180-4015877

Karnal : 0184-4020454

Safdarjung : 011-42505050

Bahadurgarh : 01276-236666

Kurukshetra : 01744-270567

Kaithal : 9996117722

Rama Vihar : 9999655255

Kashipur :7900708080

Rewari : 01274-258556

Varanasi : 7080602222